Category: स्याह-सफेद

एक महान संभावना पर बमबारी करता ट्रंप

जिंदगी में कई ऐसे मौके आते हैं जब हालात नाजुक रहते हैं, और फैसले लेने वाले लोगों से समझदारी की उम्मीद की जाती है। ऐसा माना जाता है कि जिम्मेदार लोग हालात देखते हुए गैरजरूरी हरकतों से बचेंगे, और मौके को अच्छी…Read More »

लोकतंत्र में सामंती पाखंडों का बोझ जनता क्यों ढोए?

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अभी गुजरात दौरे पर पहुंचे तो अंग्रेजों के वक्त की एक परंपरा के मुताबिक प्लेटफॉर्म पर पांव पोंछना बिछाकर उनका स्वागत किया गया। उन्होंने पहले ही ऐसे किसी भी स्वागत की परंपरा को खत्म कर दिया है और…Read More »

सैकड़ों किलोमीटर का सफर भूखे पेट, नंगे पांव किसान…

जिस महाराष्ट्र में किसानों की आत्महत्या लगातार खबरों में रहती है, और जहां सूखे से लेकर बूढ़े-कमजोर जानवरों तक की दिक्कत किसान झेल रहे हैं, वहां पर वामपंथी लाल झंडे तले दसियों हजार किसान सैकड़ों किलामीटर पैदल चलकर मुंबई पहुंचे, और वे…Read More »

हिंसक फतवों पर सरकारें चुप, सुप्रीम कोर्ट सीधे दखल दे…

By | January 21, 2018

राजस्थान में राजपूत महिलाओं के एक संगठन ने धमकी दी है कि अगर देश में कहीं भी पद्मावती फिल्म रिलीज होती है, तो वे चित्तौडग़ढ़ के किले में जाकर जौहर का इतिहास दुहराएंगी। इतिहास या कहानी के मुताबिक इस किले में राजपूत…Read More »