शब्दों की महिमा

मैं शब्द हूँ, अपनी महिमा तुमको क्या बतलाऊँ मैं,
मीठा हूँ तो गैर भी अपने हैं, कड़वा बनके अपनों को दूर भगाऊँ मैं।

खंजर, चाकू और कटार सब के सब धरे रह जायें,
ऐसी गहरी चोट लगे मन में, जब शब्दों के तीर चलाऊँ मैं।

अच्छा बुरा, छोटा बड़ा, खोटा खरा सब तरह का होता हूँ,
शब्दों के इस खेल में, क्या पता किस रूप में काम आ जाऊँ मैं।

तेरी गजल हो या मेरी कहानी सब कुछ बयां कर सकता हूँ,
सजकर के करीने से जब, किसी चोटी की तरह गुंथ जाऊँ मैं

यारों का यार, अपनों का प्यार सब कुछ मिलता शब्दों से,
प्यार की परिभाषा बन के हर किसी के दिल में समाऊँ मैं।

एक शब्द जो दिल को तड़पा दे, एक मरहम बन जाये,
हमदऱदी की बारिश में भीगूं तो हर किसी के गम भुलाऊँ मैं।

हंसाने, रुलाने, हर रिश्ते को तोड़ने बनाने की ताकत शब्दों मे है,
जीने की चाह मन मे जगा दूं, पल में जीने की राह दिखाऊँ मैं।

राम रूप मे निकलूं या अल्लाह, शब्दों का मतलब एक ही है,
अंतरात्मा की आवाज बन के निकलूं तो दिलों के बैर हटाऊँ मैं।

एक शब्द गऱत मे ले जाये तो एक शिखरों पे चढ़ा दे,
मान बढ़ाऊँ या अपनी करामात से अच्छों की औकात दिखाऊँ मैं।

नाप तौल के बोलो शब्दों को, छूटा शब्द न वापिस आये,
मीठी बात भी तीखी लगे जब सच्चाई का पाठ पढ़ाऊँ मैं।

मुझ जैसी ताकत तो किसी में नहीं, मुझ बिन सूना ये संसार
मेरा मोल न जाने जो, जहाँ न संभला तो पूरी कायनात हिलाऊँ मैं।
मैं शब्द हूँ।

वो मजदूर कहलाता है

जो हमारे लिए घर बनाता है।
घर नहीं हमारे उस सपने को साकार करता है।
जिसे हम खुली आंखों से देखते हैं।
खुद झोपड़ी में बेफिक्र होकर सोता है,
और कोई सपना नहीं देखता।

जो हमारे लिए कपड़े बनाता है।
कपड़े नहीं बल्कि हमारा सम्मान बनाता है।
जिसमें हम खुद को ढकते हैं।
खुद गंदे पुराने कपड़े पहनता है।
और शर्मिंदगी महसूस नहीं करता।

जो हमारे लिए अनाज उगाता है।
अनाज नहीं बल्कि वो अमृत उगाता है।
जिसके बिना हम जिंदा नहीं रह सकते।
खुद रूखी सूखी खाकर गुजारा करता है।
फिर भी तृप्ति महसूस करता है।

जो हमारे लिए खिलौने बनाता है।
खिलौने नहीं बल्कि वो खजाना बनाता है।
जिसमें हम अपने बच्चों की खुशी देखते हैं।
उसके खुद का बच्चा खेलने की उम्र में,
बाजारों में खिलौने बेचता है।

जो हमारी हर जरूरत को परखता है।
उसकी व्यवस्था की आधारशिला रखता है।
जो दिन रात मेहनत करता है।
और हमारे लिए सुख का सामान बनाता है।
जिसमें उसका पसीना शामिल होता है
कभी थकान नहीं महसूस करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *