रिक्शावाले का गीत 

यह रिक्शा नहीं , देह मेरी का है विस्तार 

यह चढ़ी सवारी , प्राणवायु पर पड़ता भार 

यह कुछ रुपयों के बदले पड़ी देह पर मार 

आदमी पर आदमी चढ़ा , जनतंत्र का कैसा प्रकार 

                           काम वाली बाई का गीत 

                      झाड़ूपोंछा करके अपना घरबार चलाती हूँ 

                      यह भीख नहीं , मेहनत करके संसार चलाती हूँ 

                मैं श्रम के नमक सहारे कारोबार चलाती हूँ 

                   कपड़ेबर्तन धोती मैं अपनी देह गलाती हूँ 

                         मोची का गीत 

 मूसलाधार बारिश हो या फिर कड़ी धूप हो 

रोज़ीरोटी चलती है मेरी एकरूप हो 

चाहे जूतों को सिलते मेरे हाथ हुए विद्रूप हों 

सभी बराबर सामने मेरे , राम हो या शम्बूक हो 

                      अपंग भिखारी का गीत 

                      कभी चौक , कभी मंदिर के बाहर मैं खड़ा हूँ 

आशीष बाँटता हूँ , उम्मीद से भरा हूँ 

यह देह नहीं चलती , कालबद्ध हो पड़ा हूँ 

यदि जीव में ईश्वर है , तो दान से बड़ा हूँ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *