Month: April 2018

सुबोध श्रीवास्तव की कविताएँ

चुका नहीं है आदमी..! बस, थोड़ा थका हुआ है अभी चुका नहीं है आदमी! इत्मिनान रहे वो उठेगा कुछ देर बाद ही नई ऊर्जा के साथ, बुनेगा नए सिरे से सपनों को, गति देगा निर्जीव से पड़े हल को फिर, जल्दी ही…Read More »

कठुआ की पीड़िता बच्ची के बहाने नफ़रत और जहर बो कर लाखों-करोड़ों का खेल

महबूबा मुफ्ती ने टेम्पल , रिचुवल एंड रेप की इबारत लिख कर जम्मू के हिंदुओं में आतंक का भय पैदा कर दिया है जम्मू के कठुआ में नन्हीं बच्ची के साथ बलात्कार का मामला दुःख , और शर्म का सबब है। पूरा देश…Read More »

विश्व हिंदी सम्मेलन की आहट से उठे सवाल

By | April 25, 2018

ग्यारहवें विश्व हिंदी सम्मेलन के मॉरीशस आयोजन को लेकर चर्चाएं शुरू हो गई हैं। इसका आयोजन संभवत इस वर्ष अगस्त में किया जाएगा। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की अगुवाई में इस आयोजन को अंजाम दिया जाएगा। सुषमा जी का हिंदी प्रेम जगजाहिर…Read More »

लोकतंत्र में सामंती पाखंडों का बोझ जनता क्यों ढोए?

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अभी गुजरात दौरे पर पहुंचे तो अंग्रेजों के वक्त की एक परंपरा के मुताबिक प्लेटफॉर्म पर पांव पोंछना बिछाकर उनका स्वागत किया गया। उन्होंने पहले ही ऐसे किसी भी स्वागत की परंपरा को खत्म कर दिया है और…Read More »

लेखक संगठनों पर वाजपेयी का हमला

By | April 11, 2018

हिंदी साहित्य जगत में एक बार फिर से लेखक संगठनों पर सवाल उठ रहे हैं। इस बार सवाल उठाया है हिंदी के वरिष्ठतम लेखकों में से एक अशोक वाजपेयी ने । हाल ही में उन्होंने वामपंथ को लेकर जो टिप्पणी की है उसके…Read More »

अंग्रेजी मानसिकता से मुक्त हों

मनुष्य अपने विचारों की अभिव्यक्ति किसी न किसी भाषा के माध्यम से ही करता है। भाषा के अभाव में किसी सामाजिक, सांस्कृतिक एवं राष्ट्रीय प्रगति की कल्पना नहीं की जा सकती। साहित्य, संगीत, कला, विज्ञान और इतिहास का आधार भाषा ही है।…Read More »